Ads 468x60px

Pages

Thursday, May 19, 2011

मै वो नहीं हूँ


देखती हो जो तुम मुझको ऐसे
तो किसी की याद दिलाती हो

वो भी देखा करती थी मुझे
यूँ ही किसी और के धोखे मे

पर मै वो नहीं जिसकी
तुम उम्मीद किया करती हो  

उसकी नजरे भी कुछ यूँ ही
मेरा पीछा किया करती थी

उसकी धड़कने भी कुछ यूँ ही
मेरे होने से धडका करती थी

उसके कानो की जोड़ी भी कुछ यूँ ही
मेरी आहट को सुना करती थी 

उसकी साँसे भी कुछ यूँ ही
मेरी महक को महसूस किया करती थी

कुछ ऐसे ही 
जैसे तुम किया करती हो

पर इक दिन वो ये सच जान गई
मै वो नहीं हूँ

मै वो नहीं हूँ

जिसके लिए
सपने वो देखा करती थी

जिसके लिए
उसकी आँखे मेरा पीछा किया करती थी

जिसकी खातिर
उसके दिल की धड़कने बढ़ जाया करती थी

और जिसकी खातिर वो
इक प्रेम तरन्नुम गाया करती थी

मैंने कभी नहीं कहा की
मै कोई और हूँ

पर

अब उसकी नजरो मे
मै बस इक छद्म रुपी था

और उसके दिल मे
मेरे प्रेम का कोई मोल नहीं था

अब तुम मुझे जो यूँ देखती हो

तो मेरे ह्रदय के अँधेरे कोने मे
इक प्रेम जुगनू फिर से टिमटिमाता है

पर ततछण ही मुझे वो याद आती है

और मेरा ह्रदय कहता है

मै वो नहीं
जिसका तुम इन्तेजार करती हो

हाँ मै वो नहीं हूँ
जिससे तुम प्यार करती हो

3 comments:

संजय भास्कर said...

अभिव्यक्ति का यह अंदाज निराला है. आनंद आया पढ़कर.

संजय भास्कर said...

वाह !कितनी अच्छी रचना लिखी है आपने..! बहुत ही पसंद आई

(कुंदन) said...

धन्यवाद संजय भाई

Post a Comment

 
Google Analytics Alternative