Ads 468x60px

Friday, February 23, 2018

तुम्हे तो शायद याद भी नहीं होगा

तुम्हे तो शायद याद भी नहीं होगा,
लेकिन मुझे अच्छी तरह से याद है

जब हम पहली बार मिले थे
तब घर के पीछे वाले बंजर टीले की
रेतीली जमीनी पर
पहली और आखरी बार
ढेर सारे कंवल खिले थे |

तुम्हे तो ये भी याद नहीं होगा

की जब तुमने मुझको
और मैंने तुमको
पहली बार गले से लगाया था
तब मुंडेर पर बेठे बेसुरे कव्वे ने भी
बहुत मीठे सुर में
पहली और आखरी बार
प्रेम का गीत गाया था |

और तुम्हे ये ज्ञात भी नही होगा

की जब तुम्हारे होठो ने
मेरे होठो को छुआ था
तब मेरे अपने होठो के बीच
पहली और आखरी बार
एक अद्भुत द्वंद हुआ था |

उस दिन से आज तक
मेरे होठ
एक दुसरे को छूने से
इनकार कर रहे हैं |
वजह सिर्फ इतनी है
की वो आज भी
तुम्हारे होठो का
इन्तेजार कर रहे हैं |

वजह सिर्फ इतनी है
की वो आज भी
तुम्हारे होठो का
इन्तेजार कर रहे हैं

अगर आप इसे सुनना चाहते हैं तो यहाँ से सुन सकते हैं |


Sunday, September 17, 2017

मै बस हिन्दुस्तानी हूँ यही मेरी पहचान है

मै UP से भी हूँ,
मै MP से भी हूँ
मै गुजरात से भी हूँ
मै महाराष्ट्र से भी हूँ
उत्तर के कश्मीर से मै ही हूँ
गोदावरी के तीर से भी मै ही हूँ
दक्षिण के रामेश्वर धाम से मै ही हूँ
पूरब के आसाम से भी मै ही हूँ
गंगा के आस पास से मै ही हूँ
देवो के निवास से भी मै ही हूँ

मुझे किसी एक हिस्से में मत बाटों
मै बस हिन्दुस्तानी हूँ,
यही मेरी पहचान है |
मै बस हिन्दुस्तानी हूँ,
मुझे इस बात का अभिमान है |

मै बस हिन्दुस्तानी हूँ,
मुझे इस बात का अभिमान है |

 
Google Analytics Alternative