Ads 468x60px

Pages

Saturday, May 28, 2011

लोग कहते हैं हम हँसते नहीं


वो कहते हैं हमारी सादगी को देख कर, के हम कभी हँसते नही
सच तो ये है की हम हंस के, किसी की मोहब्बत मे फंसते नही

हम तो सदा महकने वाली, हंसी की एक पूरी फुलवारी हैं दोस्तो
कोने मे सजा कर रखने वाले, नकली महक के फूलो के गुलदस्ते नही.

पूंछना उनसे हमारे ठहाको के किस्से कभी, जो साथ बैठते हैं हमारे
वो बताएँगे तुम्हे, हम हँसते हैं दिल खोल कर के या हँसते नहीं

हम तो वो हैं, जो हंसा हंसा कर रुला देते हैं पत्थरों को भी
और पत्थर हम से पूंछते हैं, क्या हंसा हंसा कर कभी तुम थकते नहीं

कहें क्या हम फूलों से, पत्थरों से और अनजानों से
ये नेमत है, जो मिली है हमें, मंदिर की घंटी से मस्जिद की अजानो से.

3 comments:

वन्दना said...

वाह वाह्…………खूबसूरत अन्दाज़्।

संजय भास्कर said...

कुंदन भाई
नमस्कार!
एक सम्पूर्ण पोस्ट और रचना!
यही विशे्षता तो आपकी अलग से पहचान बनाती है!

संजय भास्कर said...

कुंदन भाई,
कैसे लिख जाते हो यार ऐसा सब..........

Post a Comment

 
Google Analytics Alternative